एडटेक (शिक्षा प्रौद्योगिकी): रोजगार में बढ़ती भूमिका, सबसे ज्यादा मांग वाले एडटेक क्षेत्र, पूरी जानकारी !

0
88
एडटेक

एडटेक जिसे सामान्य भाषा में तकनीकी शिक्षा कहा जाता है, अगर हम इसे आसान शब्दों में समझाएं तो ऐसी शिक्षा या विषय जिसके विषय को तकनीक का उपयोग करके समझाया जाए। तकनीकी शिक्षा या एडटेक में विभिन्न प्रकार के ऑडियो, वीडियो, इंटरनेट, प्रोजेक्टर का उपयोग विषय को ऍक्स्पलेन करने के लिए किया जाता है।

जब विषय बोरिंग होता है तब प्रयोग के माध्यम से या वीडियो या पीपीटी के माध्यम से विषय को स्पष्ट किया जाता है। जिससे छात्र के संदेह दूर हो जाते हैं, छात्र और शिक्षक दोनों की संतुष्टि दर बढ़ जाती है।

आजकल ऑनलाइन कोर्स करने का चलन बढ़ा हुआ है ऑनलाइन स्टडी एडटेक का उदाहरण है जिसमें शिक्षक और छात्र का फिजिकल इंटरेक्शन नहीं होता इंटरनेट के माध्यम् से टीचर विद्यार्थी की कक्षा लेता है विषय को स्पष्ट करता है विद्यार्थियों के प्रश्नों के उत्तर देता है, यहाँ पर विद्यार्थी और शिक्षक के बीच में इंटरनेट एक मध्यस्थ के रूप में कार्य करता है।

इंटरनेट एक नेटवर्क है जो वर्डवाइड है और कनेक्टिविटी प्रदान करने का कार्य करता है, इंटरनेट किसी लैपटॉप या कंप्यूटर पर या मोबाइल पर एक्सेस होता है, इंटरनेट को चलाने के लिए एक उपकरण चाहिए, इंटरनेट के माध्यम से प्रोग्राम को चलाने के लिए कंप्यूटर और लैपटॉप का उपयोग किया जाता है।

Education

इंटरनेट और लैपटॉप या कंप्यूटर पर ये सभी टेक्नोलॉजी आधारित है, कहने का तात्पर्य यह है कि शैक्षणिक विषय को स्पष्ट करने के लिए जब टेक्नोलॉजी की मदद ली जाती है तो उसको ‘एडटेक‘ के नाम से जाना जाता है जिसका उद्देश्य हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का उपयोग करके शिक्षा प्रदान करना होता है।

एडटेक या तकनीकी शिक्षा में प्रौद्योगिकी को एक उपकरण के माध्यम से उपयोग किया जाता है जिसका केंद्र होता है शिक्षा देना और विषय को दिलचस्प बनाना भारत में आम ग्रामीण भारतीयों के पास फंड की कमी है। बहुत कम आबादी है जो आर्थिक रूप से मजबूत है अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा प्रदान करते है ।

फंड जब सीमित होता है तब केवल बुनियादी सामान्य शिक्षा डिग्री लेने तक ही सिमित रहता है वहां प्रौद्योगिकी आधारित शिक्षा की बात मंद पड़ जाती हैस्कूल, कॉलेजों में केवल बेसिक डिग्री आधारित शिक्षा ही दी जाती है जिससे शिक्षा और उद्योग(औद्योगिक प्रौद्योगिकी आधारित) के बीच में एक लाइन खिची रहती है ऐसे में ‘एडटेक’ का महत्व बढ़ जाता है एडटेक गुणवत्ता आधारित शिक्षा प्रदान करती है और व्यवस्थित तरीके से शिक्षा को बेहतर बनाती है।

एडटेक के माध्यम से प्रशिक्षण देकर उद्योग के लिए उपयोगी कर्मचारियों को तैयार किया जाता है, जिससे उद्योग का उत्पादन बढ़ता है, कर्मचारियों के जीवन स्तर में सुधार होता है इस पोस्ट में ‘एडटेक’ से संबंधित पूरी जानकारी आपको प्रदान की जाएगी आइए शुरू करते हैं –

एडटेक के अंतर्गत क्या आता है?

एडटेक शिक्षा का एक प्रकार है जिससे छात्रों को तकनीकी या औद्योगिक क्षेत्र में सफलता मिलती है, एडटेक शिक्षा में प्रशिक्षण पर ध्यान केंद्रित किया जाता है, जिसमें छात्रों को व्यावहारिक(अभ्यास आधारित) ज्ञान मिलता है, जिसे वे स्वयं काम करते समय भी अमल में ला सकते हैं।

एडटेक के अंतर्गत स्कूल स्तर 6-12 विषय आधारित पाठ्यक्रम और उद्योग आधारित पाठ्यक्रम आते हैं आजकल विभिन्न प्रतियोगिताओं की तैयारी करने वाली टॉप एडटेक संस्थाएं भी सक्रिय हैं जो ऑनलाइन प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी के लिए ट्रेनिंग देती हैं।

एडटेक के तहत औद्योगिक प्रशिक्षण के तहत इंजीनियरिंग, प्रौद्योगिकी, वास्तुकला (आर्चीटेक्चर), फार्मेसी, होटल प्रबंधन, खाद्य प्रौद्योगिकी, एप्लाइड कला (एप्लाइड आर्ट्स) और शिल्प (कारीगरी), टाउन प्लानिंग जैसे विषयों पर तकनीकी प्रशिक्षण देकर उम्मीदवार को उद्योग में काम करने के लिए तैयार किया जाता है।

Online Class

एडटेक कोर्स क्या है?

एडटेक कोर्स एक तकनीकी रूप से प्रशिक्षित व्यक्ति के द्वारा बनाया जाता है। जिसका मुख्य फोकस क्लास में शिक्षा लेने वाले छात्र की समझ को बेहतर बनाना होता है, प्रौद्योगिकी और शिक्षा आधारित ये एडटेक कोर्स एडटेक प्रशिक्षक या शिक्षक के दिशानिर्देश पर चलाया जाता है।

इस पाठ्यक्रम में शिक्षा (हार्डवेयर के रूप में) और प्रौद्योगिकी(एक सॉफ्टवेयर के रूप में)का मिश्रण किया जाता है।

एडटेक कोर्स सीखने के लिए बेसिक हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर, थ्योरी और प्रैक्टिस की आवश्यकता होती है, एडटेक कम्युनिकेशन, कंप्यूटर साइंस, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आदि के बेसिक थ्योरी पर आधारित है।

संक्षेप में एडटेक सटीक(सही) प्रक्रिया (कार्य विधि) को बनाकर, उन्हें उपयोग करके और अच्छी तरह से प्रबंधित(लागू करके) करके छात्र के प्रदर्शन में सुधार करने का एक अभ्यास है।

एडटेक की कार्यशैली

एडटेक कोर्स जिनमें बेसिक 6-12 तक के कोर्स भी आते हैं इन कोर्सेज को एडटेक कोर्स चलाने वाली कंपनियों के द्वारा तैयार किया जाता है एडटेक कोर्स में शामिल होने वाले छात्रों के प्रश्न, आवश्यकताएं, आईक्यू, समझ का स्तर अलग-अलग होता है, सभी छात्रों को एक ही मानक से प्रशिक्षित नहीं किया जा सकता।

इसलिए एडटेक कोर्स डिजाइनर कोर्स को लचीला रखते हैं, जिसे छात्र की आवश्यकता के अनुसार सेट, कट और ऐड किया जा सकता है, और पाठ्यक्रम की गुणवत्ता में सुधार किया जा सकता है।

एडटेक कोर्स के माध्यम से प्रत्येक छात्र की क्षमता का विश्लेषण करके और कौशल विकास करके, आने वाली समस्याओं को हल करके व्यक्तिगत और पूरी कक्षा के प्रदर्शन में सुधार किया जाता है। एडटेक कोर्स टेक्निकल कोर्स होते हैं और ज्यादातर ऑनलाइन ऑपरेट किए जाते हैं।

एडटेक का लक्ष्य

एडटेक के माध्यम से चलाए जाने वाले कोर्स का मुख्य लक्ष्य छात्र को तकनीकी रूप से परिपूर्ण(निपुण) बनाना, ज्ञान को स्पष्ट करना, उद्योग में काम करने के लिए योग्य बनाना होता है तकनीकी शिक्षा के आधार पर एक छात्र अपना समग्र विकास कर सकता है और अपना आत्मविश्वास को आगे के स्तर पर पहुंचा सकता है।

  • एडटेक का उद्देश्य शिक्षा की गुणवत्ता में निरंतर सुधार करना, उसे लचीला बनाना है, जिसमें छात्र की व्यक्तिगत कौशल सुधार की जरूरत को समझा जा सके और एडटेक को सबके लिए आसानी से उपलब्ध बनाया जा सके।
  • इंटरनेट, कंप्यूटर और डिजिटल तकनीक एडटेक की बुनियादी आवश्यकताएं हैं एडटेक कोर्स के मुख्य विषय को समझआने के लिए ग्राफिक्स, ऑडियो, वीडियो और इलेक्ट्रॉनिक किताबों का उपयोग किया जाता है, जिससे छात्रों को आसानी से समझने में मदद मिलती है। इंटरनेट के कारण शिक्षा गांव और दूर ग्रामीण क्षेत्र में आसानी से उपलब्ध हैं।
  • एडटेक का मुख्य लक्ष्य छात्र के आईक्यू, विषय में रुचि के अनुसार अध्ययन सामग्री प्रदान करना है।
  • एडटेक का मुख्य लक्ष्य जिस विषय को ज्यादा से ज्यादा छात्र पढ़ रहे हैं उसकी गुणवत्ता को और बेहतर बनाना है।
  • एडटेक में छात्रों के कौशल का विश्लेषण किया जाता है और सुधार करने के लिए समाधान प्रदान किया जाता है।
  • एडटेक का मुख्य लक्ष्य विषय स्पष्ट करने के साथ-साथ वैज्ञानिक मूल्यों को भी बढ़ावा देना हैएडटेक का मकसद टेक्नोलॉजी से संबंधित अधिक विषयों को इकट्ठा करके उन पर एडवांस रिसर्च करना होता है।

ED onlive

एडटेक क्यों जरूरी है?

तकनीकी शिक्षा एक देश और समाज दोनों के लिए महत्वपूर्ण है किसी देश में प्रौद्योगिकी आधारित शिक्षा का स्तर जितना ऊंचा होगा उसकी उत्पादन शक्ति उतनी ही ज्यादा होगी, और वहां के नागरिकों का जीवन स्तर भी उतना ही ऊंचा होगा।

एडटेक तकनीकी शिक्षा के माध्यम से नागरिकों के जीवन स्तर को बेहतर बनाता है जिससे जनशक्ति (मानव शक्ति) और संसाधनों का बेहतर उपयोग हो सकता है।

तकनीकी शिक्षा प्राप्त करके एक छात्र अपने कार्यस्थल पर तकनीकी पहलुओं को लागू कर सकता है। एडटेक में औद्योगिक प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है जिसका सकारात्मक प्रभाव प्रशिक्षु की पेशेवर वर्किंग में स्पष्ट देखा जा सकता है।

तकनीकी शिक्षा(एडटेक) कैरियर केंद्रित प्रशिक्षण प्रदान करता है, ये कौशल विकास और औद्योगिक प्रशिक्षण पर मुख्य फोकस करता है जिससे उम्मीदवार किसी कंपनी में नौकरी प्राप्त कर सके।

एडटेक कंपनी क्या करती है?

तकनीकी शिक्षा जिसका लोकप्रिय नाम ‘एडटेक’ है, ये छात्रों और कर्मचारियों को तकनीकी प्रशिक्षण देने के लिए सॉफ्टवेयर और प्रौद्योगिकी का उपयोग
करते है अध्ययन सामग्री तैयार  करते है जिसके केंद्र में शिक्षा की गुणवत्ता बेहतर करना होता है, छात्रों के संभावित संदेह का समाधान करना होता है।

कोर्स को चलाने के लिए कंपनियां कंप्यूटर, कंप्यूटर एप्लीकेशन और सिद्धांत (थियोरी) आधारित शिक्षा प्रणाली का उपयोग करती हैं।

भारत में एडटेक की शुरुआत कब हुई?

भारत में 1994 में एडटेक की शुरुआत हुई, ‘एडुकॉम्प सॉल्यूशंस‘ भारत की पहली एडटेक कंपनी थी ‘एडुकॉम्प सॉल्यूशंस’ ने तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण रोल प्ले किया है, ये कंपनी एडटेक सेक्टर की अग्रणी कंपनी है।

क्या भारत में एडटेक फायदेमंद है?

संयुक्त राज्य अमेरिका के बाद भारत दुनिया के दूसरे सबसे बड़े एडटेक बाजार के रूप में सामने आया है। विश्व एडटेक बाजार में भारत का एडटेक बाजार का आकार 10 अरब से ज्यादा है।

एडटेक के मुख्य लाभ क्या हैं?

एडटेक के मुख्य लाभ नीचे दिये जा रहे हैं-

  1. कौशल विकास
  2. कार्य क्षमता का विकास
  3. व्यावसायिक योग्यता
  4. विश्व बाजार में प्रतिस्पर्धात्मकता योग्यता
  5. औद्योगिक चुनौतियों का सामना करने की क्षमता
  6. उच्च कमाई की क्षमता
  7. समस्या समाधान पाने की क्षमता

भारत में कितनी एडटेक कंपनियां हैं?

भारत में 15,374 एडटेक स्टार्टअप है जिनमें बायजस, अपग्रेड, फिजिक्सवाला आदि है।

भारत की नंबर 1 एडटेक कंपनियां कौन सी हैं?

बायजस का प्रारम्भ 2011 में बेंगलुरु से एक एडटेक स्टार्टअप के रूप में हुआ था वर्तमान में इसकी मार्केट वैल्यू 13 बिलियन अमेरिकी डॉलर है ये दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती एडटेक कंपनी है।

एडटेक छात्रों की कैसे मदद करता है?

एडटेक कठिन विषयों को प्रौद्योगिकी का उपयोग करके आसान तरीके से  छात्रों के सामने रख कर, उन्हें समझने में मदद करता है छात्र एडटेक टूल का उपयोग करके अपना ज्ञान और सीखने की क्षमताओं में सुधार कर सकते हैं, जिससे वे कक्षा में बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं।

सर्वाधिक मांग वाले तकनीकी क्षेत्र

  • डेटा वैज्ञानिक

डेटा साइंटिस्ट कंपनी के डेटा को अपने तकनीकी ज्ञान से महत्वपूर्ण डेटा को समझकर, डेटा को प्रबंधित करते है और मुद्दों को हल करते है। एक डेटा साइंटिस्ट के पास मैथमेटिक्स, एल्गोरिथम, कंप्यूटर साइंस जैसे सब्जेक्ट्स का सॉलिड बेस और प्रोफेशनल नॉलेज होती है।

  •  मशीन लर्निंग इंजीनियर्स

डेटा साइंस टीम का सबसे महत्वपूर्ण काम, मशीन लर्निंग इंजीनियरों द्वारा किया जाता है, ये आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आधारित डिजाइनिंग करने का करते है, जिसमें एआई सिस्टम को सुधारना और बनाए रखना(प्रबंधित करना) होता है।

  • अर्थशास्त्री

अर्थशास्त्री बाजार अवलोकन के आधार पर किसी अर्थव्यवस्था का कामकाजी मॉडल तैयार करते हैं, ये समाज संसाधन और इसके परिणाम के बीच के रिश्ते का अध्ययन भी करते हैं।

  • कंप्यूटर प्रोग्रामर

कंप्यूटर प्रोग्रामर कोड को लिखने, और डिबग करने का कार्य करते है, जिसपर एक कंप्यूटर परफॉर्म करता है, प्रोग्राम के द्वारा कंप्यूटर का हार्डवेयर उसके सॉफ्टवेयर से कनेक्ट होता है।

  • सोशल मीडिया रणनीति विशेषज्ञ

किसी बिजनेस को सफल बनाने के लिए सोशल मीडिया और इंटरनेट पर सक्रिय होना जरूरी है, सोशल मीडिया रणनीति विशेषज्ञ बाजार अध्ययन करके अनुमान लगाते हैं कि उत्पाद पर कौन सा ऑफर कब चलाना है या अपने ग्राहक को कैसे बढ़ाना है।

  • कृषि

किसान खेती बोते और काटते हैं उन्हें समय-समय पर बाजार में आने वाले कृषि संबंधी नए वैज्ञानिक तरीकों के बारे में अपडेट रहना चाहिए, जिससे उनका उत्पादन बढ़े और फसल का सही दाम मिले।

  • रोबोटिक विशेषज्ञ

रोबोटिक स्पेशलिस्ट का कार्य औद्योगिक, वाणिज्यिक या व्यक्तिगत रोबोट का उत्पादन, रखरखाव और डिजाइनिंग का होता है इसलिए एक रोबोटिक साइंटिस्ट के पास एआई, रोबोटिक्स, इलेक्ट्रॉनिक्स, गणित आदि का अच्छा ज्ञान होना चाहिए।

  • कंप्यूटर हार्डवेयर इंजीनियर

प्रौद्योगिकी विकास में हार्डवेयर इंजीनियरों की महत्वपूर्ण भूमिका है ये सभी जानते हैं, कंप्यूटर हार्डवेयर इंजीनियर हार्डवेयर घटकों के विकास और डिजाइनिंग का कार्य करते हैं।

e-learning

भारत का सबसे सफल एडटेक उद्यम

भारत की ‘बायजस‘ एडटेक कंपनी 2023 में सबसे सफल और विश्व स्तर पर सबसे अधिक मूल्यवान यूनिकॉर्न थी इसकी कीमत 22 बिलियन अमेरिकी डॉलर जज की गई।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न: शिक्षण की सबसे अच्छी विधि कौन सी है?

उत्तर: प्रदर्शन विधि(डिस्प्ले विधि) शिक्षण का सबसे अच्छा तरीका है, यह विधि अनुभव पर आधारित है और चरण दर चरण किसी प्रक्रिया या घटना को समझाने के लिए डिजाइन की गई है।

प्रश्न: वर्तमान में शिक्षा का क्या तरीका है?

उत्तर: वर्तमान में शिक्षा पद्धति विद्यार्थी कठिन परीक्षा पासकरने के लिए कोर्स में दी गई डिटेल को सुनने के स्थान पर नए इनोवेटिव विचारों का उपयोग करके अपने आईक्यू लेवल में सुधार करने के तरीके आधारित हैं।

प्रश्न: एडटेक के कंपोनेंट्स कौन से हैं?

उत्तर: शिक्षा प्रौद्योगिकी (एडटेक)सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर सिद्धांत और सिस्टम विश्लेषण पर काम करती है।

इन्हें भी पढ़े:

नीट यूजी 2024 एनटीए ने जारी किया एडमिट कार्ड ऐसे डाउनलोड करें, जानें कटऑफ वैल्यू, काउंसलिंग डिटेल, मेडिकल कोटा और भी बहुत कुछ!

यूजीसी नेट जून सत्र परीक्षा 2024: रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख 19 मई आज ही आवेदन करें जानें परीक्षा से जुड़ी सभी जानकारी!

आपको एडटेक(शिक्षा प्रौद्योगिकी): रोजगार में बढ़ती भूमिका पोस्ट में एडटेक(शिक्षा प्रौद्योगिकी) से संबंधित सभी जानकारी उपलब्ध कराई गयी है यदि आपको जानकारी उपयोगी लगी हो तो इसे अपने मित्र मंडली में साझा करें और टिप्पणी करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here