भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने केबल आधारित भारत के सबसे लंबे पुल ‘सुदर्शन पुल’ को राष्ट्र को समर्पित किया

0
48
भारत

भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सबसे लंबे पुल ‘सुदर्शन पुल’ को राष्ट्र को समर्पित किया इसके साथ ही मोदी ने विश्व प्रसिद्ध द्वारकाधीश मंदिर में पूजा अर्चना की, इस पुल का नाम ‘सिग्नेचर ब्रिज’ रखा गया था, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने द्वारका में 25 फरवरी को ओखा और बेयट के बीच बने (सिग्नेचर ब्रिज) ‘सुदर्शन सेतु’ का उदघाटन किया जो यहां की आम जनता और यहां आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए काफी महत्व पूर्ण रहेगा।

सिग्नेचर ब्रिज का नाम परिवर्तन करके ‘सुदर्शन ब्रिज’ रखा गया है ये सेतु अरब सागर पर बना हुआ है और बेयत द्वारिका द्वीप और मुख्य भूमि ओखा को जोड़ता है देवभूमि के इस विशेष कार्यक्रम में गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल और भाजपा गुजरात इकाई प्रमुख सीआर पाटिल मोजूद थे।

सुदर्शन सेतु की संरचना

सुदर्शन सेतु की चौड़ाई 27.20 मीटर है और इसके दोनों तरफ 2.50 मीटर चौड़ा फुटपाथ है देवभूमि द्वारिका के एक अधिकारी के अनुसार ये पुल 2.23 किमी तक फैला हुआ है जिसका एक सेंट्रल डबल स्पैन केबल 900 मीटर की दूरी कवर करता है जबकी 2.45 किमी लंबी road approach है।

सुदर्शन सेतु लगभग 2.32 किमी लंबा केबल आधारित भारत का सबसे लंबा पुल है, सिग्नेचर ब्रिज का डिजाइन काफी आकर्षण है इसके फुटपाथ के दोनों ओर श्रीमद्भगवद्गीता के श्लोक और भगवान कृष्ण की मूर्तियों से सजाया गया है, इस पुल की एक और विशिष्टता है इसके फुटपाथ के ऊपरी portion में solar penal लगाये गये है, इनसे 1 मेगावाट बिजली उत्पादन किया जाएगा।

भारत का सबसे लंबा 2.5 किमी लंबा ये पुल 978 करोड़ की लागत से बनाया जा रहा है, ये तीर्थ द्वारका आने वाले यात्रियों और स्थानीय जनता के लिए काफी महत्वपूर्ण और उपयोगी रहेगा, ये पुल बेयत द्वारका और ओखा को जोड़ता है, बेयत द्वारका, द्वारका शहर से 30 किमी दूर ओखा बंदरगाह के पास एक द्वीप है, यहीं पर भगवान कृष्ण का विश्वप्रसिद्ध द्वारकाधीश मंदिर है।

वर्तमान में बेयत द्वारका आने वाले तीर्थयात्री जब तक पुल का निर्माण पूरा नहीं हो जाता तबतक दिन के समय नाव से ही यात्रा कर पाएंगे पुल उदघाटन के अलावा पीएम मोदी द्वारकाधीश मंदिर में दर्शन और दिन में एक बड़ी जन सभा को भी संबोधित करेंगे।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार द्वारका मंदिर के पुजारी धर्म ठाकुर ने कहा कि सुदर्शन सेतु केवल एक पुल नहीं है बल्की सुदर्शन पुल एक भावना है सुदर्शन पुल से यहां के ग्रामवासियों की सभी समस्याओं का समाधान हो जाएगा पीएम मोदी के एक निर्णय के अनुरूप द्वारिका को भी विकसित भारत में शामिल कर लिया गया है जिसके लिए हम उनका धन्यवाद करते हैं।

द्वारिका मंदिर के एक अन्य पुजारी ने कहा कि इस पुल का नाम भगवान कृष्ण के सुदर्शन चक्र पर रखा गया है ये सबसे महत्वपूर्ण बात है इसके लिए हम पीएम मोदी को धन्यवाद देते हैं इसे हर कोई याद रखेगा हमारी ख़ुशी को शब्दों में व्यक्त करना बहुत मुश्किल है सभी पुजारियों की तरफ से पीएम मोदी को ढेर सारी शुभकमनाएं!

बिभिन्न योजनाओं का उद्घाटन:

पुल उदघाटन समारोह के बाद पीएम मोदी जामनगर और पोरबंदर तथा देवभूमि द्वारका में कई परियोजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन करेंगे जिसमें 533 किलोमीटर लंबी राजकोट-ओखा, राजकोट जेतलसर-सोमनाथ और जेतलसर बांसजालिया रेलवे परियोजना का विद्युतीकरण और पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तहत वडनार में दो अपतटीय पाइपलाइन का उद्घाटन करेंगे

ये पाइपलाइन परियोजना वर्तमान पाइपलाइन और मैनिफोल्ड (पीएलईएम) को छोड़ना और पूरे सिस्टम (पाइपलाइन, पीएलईएम, इंटरकनेक्टिंग लूपलाइन को) को पास के नए स्थान पर ट्रांसफर करने का काम करेगी।

पीएम मोदी NH-927D के धोराजी जाम कंडोरणा कलावड़ खंड को चौड़ा करने वाली परियोजना का भी अनावरण करेंगे इसके अलावा जामनगर के क्षेत्रीय विज्ञान और सिक्का थर्मल पावर स्टेशन जामनगर के फ्लू गैस डिसल्फराइजेशन (एफजीडी) सिस्टम को भी चालू करेंगे पीएम मोदी 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशो में 200 से अधिक स्वास्थ्य सेवा बुनियादी ढांचा परियोजना का भी अनावरण करेंगे।

sudarshan

5 अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान का उद्घाटन:

प्रधानमंत्री कार्यालय पीएमओ ने इस बात की भी जानकारी दी कि राजकोट (गुजरात) के एक सार्वजनिक कार्यक्रम में, भटिंडा (पंजाब), रायबरेली (उत्तर प्रदेश), कल्याणी (पश्चिम बंगाल) और मंगलागिरी (आंध्र प्रदेश) के 5 अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान का उद्घाटन करेंगे ,गुजरात के इस ड्रीम प्रोजेक्ट के उदघाटन से पहले पीएम मोदी ने कहा था कि ये अवसर गुजरात की विकास यात्रा के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर होगा।

पीएम मोदी के ‘x'(ट्विटर)पर विचार:

शनिवार को सोशल मीडिया एक्स की एक पोस्ट पर पीएम मोदी ने लिखा ”कल गुजरात के विकास पथ की यात्रा में एक खास दिन होगा जिसमें उदघाटन की जाने वाली कई परियोजनाओं में ओखा मुख्य भूमि और द्वारका को जोड़ने वाला ‘सुदर्शन सेतु’ भी शामिल है। ये एक आश्चर्यजनक परियोजना है जिससे कनेक्टिविटी बढ़ेगी।

समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए एक यात्री ने द्वारका में कहा कि इस पुल के निर्माण से समय की बचत होगी, पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और सार्वजनिक बुनियादी ढांचे के विकास के साथ अच्छी स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच बढ़ेगी।केंद्र सरकार द्वारा 2017 में इस पुल के निर्माण को मंज़ूरी दी गई थी जिसका उदेश्य द्वारका और ओखा के बीच में यात्रा को आसान बनाना था इससे पहले द्वारका पहुंचने वाले भक्तों को नाव से ही जाना पड़ता था।

पीएम मोदी गुजरात की दो दिन की यात्रा पर हैं रविवार को पीएम मोदी ने द्वारका मंदिर में पूजा अर्चना की ,पीएम मोदी ने सुबह 8.25 बजे सुदर्शन सेतु का उद्घाटन किया और 4,150 करोड़ की अलग-अलग विकास परियोजनाओं का उद्घाटन किया जिसमें 6 नए एम्स भी शामिल हैं।

पीएम मोदी का संबोधन:

पीएम मोदी ने सुदर्शन सेतु को इंजीनियरिंग का चमत्कार बताया और कहा कि यह सेतु केवल सुविधा नहीं है ब्लकि इंजीनियरिंग का एक चमत्कार है वे रविवार को अपने गृह राज्य गुजरात में द्वारका के एक कार्यक्रम में जनता को संबोधित कर रहे थे पीएम मोदी ने सुदर्शन सेतु के बारे में कहा कि सुदर्शन सेतु एक सुबिधा ही नहीं, ये इंजीनियरिंग का चमत्कार भी है, स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के छात्रों को सुदर्शन सेतु का अध्ययन करना चाहिए।

ये भारत का सबसे लंबा ब्रिज है आज मैंने उन क्षणों का अनुभव किया जो हमेशा मेरे साथ रहेंगे मैं समुद्र की गहराई में गया और प्राचीन द्वारका नगरी के दर्शन किये।

पीएम मोदी पूरे देश में स्वास्थ्य, रेल, सड़क और पर्यटन से संबंधित 52,550 करोड़ से अधिक की विभिन्न विकास परियोजनाओं का उद्घाटन करने के लिए गुजरात की 2 दिन की यात्रा पर हैं।

आपको भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने केबल आधारित भारत के सबसे लंबे पुल ‘सुदर्शन पुल’ पोस्ट में ‘सुदर्शन पुल’ से संबंधित सभी जानकारी उपलब्ध कराई गयी है यदि आपको जानकारी उपयोगी लगी हो तो इसे अपने मित्र मंडली में साझा करें। और Comment करें।

इन्हें भी पढ़े:

इलेक्टोरल बॉन्ड मामला :एसबीआई को सुप्रीम कोर्ट आदेशों की अवमान्ना पर चेतावनी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here