IE100 List में भारत के 10 शक्तिशाली लोगों में मोदी TOP पर!

0
85
IE

IE(इंडियन एक्सप्रेस) ने 2024 के 100 सबसे शक्तिशाली लोगो की सूची जारी की है जिसमें पीएम मोदी को सूची में पहला स्थान मिला है। IE 100 सूची इंडियन एक्सप्रेस ग्रुप द्वारा बनाई गई है इस सूची में भारत के 100 सबसे शक्तिशाली व्यक्तित्वों के नाम दिए गए हैं IE की सूची में पहले 10 स्थानो पर कौन है आईये जानते हैं-

प्रथम स्थान पर नरेंद्र दामोदरदास मोदी:

नरेंद्र दामोदरदास मोदी 26 मई 2014 से अब तक लगातार दूसरी बार भारत के प्रधानमंत्री बने हैं इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट में सबसे शक्तिशाली 10 लोगों की सूची में नरेंद्र मोदी को सबसे ऊपर रखा गया है इसके पहले वे 7 अक्टूबर 2001 से 22 मई 2014 तक गुजरात के मुख्यमंत्री रह चुके हैं प्रधानमंत्री मोदी भारतीय जनता पार्टी एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्य भी हैं।

भारतीय राजनेताओं में सर्वधिक सफल मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी को जाना जाता है 1975 में देश में आपात्कालीन स्थिति के समय उन्हें कुछ समय के लिए अज्ञातवास करना पड़ा।

1995 में वह बीजेपी से जुड़े और 2001 तक पार्टी के अलग-अलग पदो पर कार्य किया जहां से वह धीरे-धीरे भाजपा में सचिव के पद पर पहुंच गए 2001 में गुजरात के 14वें मुख्यमंत्री के पद पर उन्हें नियुक्‍त किया गया, उनके अच्छे कामों के कारण गुजरात की जनता ने नरेंद्र मोदी को लगातार चार बार 2001 से 2014 तक मुख्यमंत्री चुना।

IE 2024 Power Listगुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातक डिग्री प्राप्त श्री नरेंद्र मोदी आज जनता में विकास पुरुष के नाम से जाने जाते हैं और वर्तमान में देश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से एक है टाइम मैगज़ीन ने मोदी को ‘पर्सन ऑफ दा ईयर 2013’ के 42 उम्मीदवारोंकी सूची में शामिल किया था, 2014 में बीजेपी की तरफ से उन्हें प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया गया और भारी बहुमत से बीजेपी की सरकार बनी जिसमें नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाया गया।

2019 में भारतीय जनता पार्टी ने उनके नेतृत्व में दोबारा चुनाव लड़ा और पहले से भी ज्यादा बड़ी जीत हासिल की उनके स्मरणीय कार्यों की एक लंबी सूची है 2019 में उन्होंने जम्मू और कश्मीर के विशेष राज्य के दर्जे को रद्द किया  नागरिक संशोधन अधिनियम 2019 उसी वर्ष में पेश किया गया मोदी की हिंदू राष्ट्रवादी और 2002 के गुजरात दंगों के दौरन उनकी भूमिका घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्टार पर विवाद का विषय बना।

Narendra Modi

मोदी आज विश्व में सबसे प्रभावशाली और शक्तिशाली नेताओं में गिने जाते हैं उनकी लोकप्रियता का अनुमान, उनके सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फॉलोअर्स की संख्या को देखकर लगाया जा सकता है जो 95.6 मिलियन है नरेंद्र मोदी की राम जन्मभूमि अयोध्या मंदिर के 22 जनवरी के मंदिर उद्घाटन के बाद हिंदू समाज में एक बहुत ही सम्माननीय छवि बनी है।

दूसरे स्थान पर अमित शाह:

 अमित शाह को मोदी सरकार के द्वितीय कार्यक्रम में भारत के गृह मंत्री बनाया गया उन्होंने जम्मू कश्मीर धारा 370 को हटाने का फैसला लिया जो कांग्रेस के सत्ता में रहते असम्भव माना जाता था महाराष्ट्र के मुंबई में एक व्यवसाई परिवार में उनका जन्म हुआ वह बहुत कम आयु में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ गए गुजराती हिंदू वैष्णव बनिया परिवार में उनका जन्म हुआ बायोकैमिस्ट्री की पढ़ाई उन्होने अहमदाबाद से की, इसके बाद राजनीति में आने से पहले शाह अपने पिता का पारिवारिक व्यवसाय संभालते थे।

1987 में उन्होने बीजेपी ज्वाइन किया 1991 में आडवाणी जी के गांधीनगर से चुनाव लड़ने पर उन्हें राजनीति में मौका मिला और 1996 में जब अटल बिहारी वाजपेई ने गुजरात से चुनाव लड़ा तब उन्हें राजनीति का दूसरा मौका मिला पेशे से स्टॉक ब्रोकर अमित शाह ने 1997 में गुजरात से अपने राजनीतिक कैरियर की शुरुआत की राजनीतिक जीवन में अमित शाह पर अनेक आरोप भी लगे।

Amit Shah

उनकी संगठन  कुशलता और नेतृत्व क्षमता का अंदाज़ तब लगा जब 16 मई 2014 को 16 वीं लोकसभा के चुनाव का परिणाम आया, उनकी राजनीतिक कुशलता को देखते हुए उनका पार्टी में कद बढ़ा और उन्हें भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष पद पर आसीन कर दिया गया उनके द्वारा लिए गए यादगार फ़ैसलों में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक 2019 और नागरिक संशोधन अधिनियम 2019 को प्रमुखता से देखा जाता है।

तीसरे स्थान पर मोहन मधुकर भागवत:

मोहन मधुकर भागवत एक पशु चिकित्सक और 2009 से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघ संचालक हैं मोहन भागवत को एक व्यवहारिक नेता के रूप में देखा जाता है महाराष्ट्र में जन्मे मोहन भागवत 1975 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े संघ में 1977 से 2009 तक उन्होने प्रमुख अन्य पदो पर कार्य किया।

Mohan Bhagwat

2009 में मोहन भागवत को सरसंघ संचालक मनोनीत किया गया उनकी छवि एक स्पष्टवादी व्यवहारिक और राजनीति से संघ को दूर रखने वाले एक व्यक्ति के रूप में है राम जन्म भूमि मंदिर शिलान्यास के समय उनकी भाजपा से निकटता सामने आई जब मंदिर शिलान्यास के सभी कार्यों को मोहन भागवत ने संभाला मोहन भागवत ने हिंदुत्व को आधुनिकता के साथ जोड़ा है इसके साथ ही उन्होंने संगठन का आधार समृद्ध किया है और भारतीय प्राचीन मूल्यों से भी जोड़ा है।

चौथे स्थान पर डीवाई चंद्रचूड़:

डीवाई चंद्रचूड़ को 1998 में मात्र 38 वर्ष की आयु में एक वरिष्ठ वकील के रूप में मनोनीत किया गया, जो 40 वर्ष की आयु से पहले नहीं दिया जाता है सीजी चंद्रचूड़ ने मुंबई हाई कोर्ट में जज के रूप में और उसके पहले 2016 में सुप्रीम कोर्ट में जज के रूप में कार्य किया।

chandrachud

डीवाई चंद्रचूड़ को 2022 में भारत का 50वां मुख्य न्यायाधीश चुना गया सबसे चर्चित फैसले में 2019 में अयोध्या स्वामित्व विवाद में वह पंच न्यायधीशों की संविधान पीठ के सदस्य भी थे, सर्वसम्मति से जहां कभी बाबरी मस्जिद थी का मालिकाना हक राम लला विराजमान को देने का फैसला किया गया।

पांचवें स्थान पर एस जयशंकर:

jayshankar

एस जयशंकर वर्तमान में भारत के विदेश मंत्री हैं 2015 से 2018 तक भारत सरकार के विदेश सचिव रह चुके हैं किसी विदेश सचिव के रूप में एशिया के बेहद महतवपूर्ण असाइनमेंट पर भी काम किया है सोवियत संघ के मास्को में और श्रीलंका में भारतीय सेनाओ के शांति मिशन के दौरन जयशंकर तैनात रहे भारत अमेरिका के बीच इंडो न्यूक्लियर डील में भी जयशंकर की अहम भूमिका थी जयशंकर को 2015 में भारत के विदेश सचिव के रूप में नियुक्‍त किया गया।

छठवें स्थान पर योगी आदित्‍यनाथ:

योगी आदित्‍यनाथ एक भारतीय हिंदू साधु हैं वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य कर रहे हैं सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री के रूप में कार्य करने वाले पहले व्यक्ति हैं आदित्यनाथ गोरखपुर के गोरखनाथ मठ के महंत भी हैं इनकी पहचान एक हिंदू राष्ट्रवादी नेता के रूप में है, योगी आदित्‍यनाथ हिंदू युवा वाहिनी संगठन के संस्थापक भी हैं।

yogi aditya

आदित्यनाथ ने 26 साल की उम्र में 1998 में गोरखपुर से भाजपा प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा जिसे वे जीत गए और 12वीं लोकसभा में सबसे युवा सांसद के रूप में नामित हुए।

2002 में हिंदू युवा वाहिनी बनी, वर्तमान में 19 मार्च 2017 से योगी दूसरी बार  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं उन्होंने अपने कई अच्छे कार्यों में प्रदेश में कई जनकल्याण योजना को चलाने के कारण लोकप्रियता हासिल की है योगी को वर्तमान में राम जन्म भूमि अयोध्या में मंदिर निर्माण के कारण काफी प्रसिद्धि मिली है।

योगी आदित्‍यनाथ के मुख्यमंत्री चुने जाने के समय जो मुसलमानों में भय था क्योंकि योगी की छवि एक हिंदूवादी नेता की है उन्होंने समानता के आधार पर कार्य करते हुए मुसलमानों के हृदय से डर की भावना को समाप्त कर दिया आज मुस्लिम भी योगी आदित्यनाथ का एक मुख्यमंत्री के रूप में सम्मान करते हैं।

सातवें स्थान पर राजनाथ सिंह:

राजनाथ सिंह भारत के प्रमुख राजनीतिज्ञ और वर्तमान में भारत के रक्षा मंत्री हैं भारत के गृह मंत्री के रूप में भी राजनाथ सिंह ने कार्य किया है वर्तमान सत्ता दल भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष रह चुके हैं उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के एक छोटे से गाँव में इनका जन्म हुआ गोरखपुर विश्वविद्यालय से भौतिक शास्त्र में डिग्री लेने के बाद मिर्ज़ापुर में उन्हें सम्मानित किया गया।

Rajnath

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार में शिक्षा मंत्री, केंद्रीय भूतलपरिवहन मंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में भी राजनाथ सिंह ने काम किया  राजनाथ सिंह दो बार पार्टी के अध्यक्ष रह चुके हैं 2014 में केंद्र में बीजेपी की सरकार आने के बाद राजनाथ सिंह को केंद्रीय मंत्री के रूप में शपथ दिलाई गई।

2017 में उन्होने बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार के साथ ‘भारत के वीर’ योजना को लॉन्च किया, ‘भारत के वीर’ एक वेबसाइट और मोबाइल ऐप है जो जनता को भारतीय अर्द्ध सैनिक बल और सीएपीएफ के परिवारों के लिए योगदान करने की ऑनलाइन सुविधा प्रदान करती है।

आठवें स्थान पर निर्मला सीतारमन:

निर्मला सीतारमन वर्तमान में भारत की वित्त मंत्री हैं सितंबर 2017 से 2019 तक निर्मला रक्षा मंत्री रही इससे पहले वह भारत की वाणिज्य और उद्योग तथा वित्त और कॉर्पोरेट मामलों की राज्य मंत्री रह चुकी है इन्होनें पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता के रूप में भी कार्य किया है।

वर्तमान में निर्मला सीतारमन भारत की पहली पूर्णकालिक महिला वित्त मंत्री हैं निर्मला सीतारमन 2003 से 2005 तक राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य रह चुकी हैं 2017 में नरेंद्र मोदी की सरकार में उन्हें रक्षा मंत्री बनाया गया सीतारमन ने तमिलनाडु से अर्थशास्त्र में स्नातक की शिक्षा ली जवाहरलाल नेहरू विश्व विद्यालय से अंतरराष्ट्रीय अध्ययन में एम फिल की डिग्री ली।

Nirmala

निर्मला ने ‘प्राइस वॉटर हाउस कूपर्स’ के साथ वरिष्ठ प्रबंधक के तौर पर भी कार्य किया है कुछ समय के लिए बीबीसी विश्व सेवा के लिए भी कार्य किया हैदराबाद में स्थित ‘प्रणव स्कूल’ के संस्थापकों में से सितारामन एक हैं, वर्तमान में कई अन्तरिम और पूर्ण बजट पेश कर चुकी हैं जिन्हें काफी पसंद किया गया है।

नौवें स्थान पर जेपी नड्डा:

जेपी नड्डा वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और वरिष्ठ राजनीतिज्ञ हैं ये राज्यसभा के सांसद भी हैं पटना में जन्मे जय प्रकाश नड्डा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ रहे अपने राजनीतिक कैरियर में उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों में राज्य के प्रभारी और चुनाव प्रभारी के रूप में कार्य किया।

2014 के लोकसभा चुनाव के समय नड्डा ने बीजेपी हेड क्वार्टर  से पूरे देश में पार्टी का चुनाव कैम्पैगनिंग का काम किया जेपी नड्डा अपनी रणनीति के करण ये पार्टी का वोट शेयर बढ़ाने में सफल रहे नड्डा को 2020 में भारतीय जनता पार्टी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया।

2023 में बागेश्वर पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री ने जब भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने की मांग की और इसके समर्थन में देश में व्यापक स्तर पर मांग उठने लगी तो जेपी नड्डा ने इसका विरोध किया जेपी नड्डा को वर्तमान में केन्द्रीय सरकार के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में पार्टी को मजबूती और स्थिरता प्रदान करने के लिए जाना जाता है।

दसवें स्थान पर गौतम अडानी:

गौतम अडानी गुजरात के जैन परिवार में जन्मे भारतीय उद्यमी और अरबपति हैं जो कि अडानी समूह के अध्यक्ष हैं अडानी समूह कोयला, तेल गैस, बन्दरगाह, लॉजिस्टिक, बिजली उत्पादन के करोबार को संभालने वाला विश्व स्तर का एक इंफ्रास्ट्रक्चर है।

Adani

2,000 अरब डॉलर का कारोबारी साम्राज्य संभालने वाले अडानी एक औसत पृष्ठभूमि के व्यक्ति हैं उन्हें व्यापार परिवहन इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए विश्व भर के सबसे प्रभावशाली बिजनेसमैन में गिना जाता है 2022 में गौतम अडानी दुनिया के सबसे अमीर शख्स बन गए अडानी ग्रुप के शेयर्स में जबरदस्त तेजी की वजह से उनकी संपत्ति में ये उछाल देखा गया।

FAQ:

Q: RSS इतना शक्तिशाली क्यों है?

A:आरएसएस इस मायने में बड़ा है कि इसकी उपस्थिति पूरे भारत में है  लगभग सभी शहरों में और बहुत सारे गांवों में, कौन कितना शक्तिशाली है यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपकी शक्ति की परिभाषा क्या है, आरएसएस में सभी सदस्य (जिन्हें स्वयं सेवक कहा जाता है) परिवार के एक हिस्से की तरह एकजुट हैं।

इन्हें भी पढ़े:

पीएम मोदी की Lakshadweep यात्रा – अदभुत Natural Beauty

प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना: पीएम मोदी ने योजना लागू करने की घोषणा की

आपको IE100 List पोस्ट में 10 शक्तिशाली लोगों से संबंधित सभी जानकारी उपलब्ध कराई गयी है यदि आपको जानकारी उपयोगी लगी हो तो इसे अपने मित्र मंडली में साझा करे और comment करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here