पीएम मोदी एनटीपीसी की 30.000 करोड़ के बिजली प्रोजेक्ट शृंखला की आधारशिला रखेंगे

0
65

पीएम मोदी आज 4 मार्च 2024 को एनटीपीसी की 30,000 करोड़ के बिजली प्रोजेक्ट परियोजनाओं की आधारशिला रखेंगे, जिससे देश में निरंतर विकास और समृद्धि का संकेत मिलता है।

पीएम मोदी एनटीपीसी तेलंगाना में पूरे देश की बिजली परियोजना श्रृंखला देश को समर्पित करेंगे, प्रधानमंत्री मोदी द्वारा उद्घाटन की जाने वाली परियोजनाओ को हम आपको विस्तार से बता रहे हैं।

एनटीपीसी क्या है और इसका क्या रोल है?

एनटीपीसी का पूरा नाम नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन है, एनटीपीसी की स्थापना 1975 में हुई थी इसका हेड क्वार्टर नई दिल्ली में है, ये एक भारतीय सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी है, इसकी स्थापना का उद्देश्य भारत में बिजली उत्पादन को बढ़ाना था, आउटपुट के दृष्टिकोण से ये भारत की सबसे बड़ी और मुख्य थर्मल पावर उत्पादन करने वाली कंपनी है।

एनटीपीसी बिजली मंत्रालय और भारत सरकार के निर्देशों में काम करती है,एनटीपीसी की स्थापना 1975 में हो गई थी, वर्ल्ड रैंकिंग में एनटीपीसी का 26वां स्थान है।

एनटीपीसी की वर्तमान क्षमता 75418 मेगा वाट है, वर्तमान में एनटीपीसी 55 पावर स्टेशनों को संचालित कर रहा है, जिनमे 24 कोयला परियोजना, 7 सीपीएम संयुक्त चक्र गैस और तरल गैस परियोजना, 2 जल विद्युत परियोजना, 1 पवन टरवाइन, 11 सौर परियोजनाएं शामिल हैं।

 

तेलंगाना

एनटीपीसी भारत में 70 स्थानों को संचालित करता है, इसके अलावा 1 स्थान श्रीलंका है और 2 स्थान बांग्लादेश है, एनटीपीसी के द्वार संचालित करता है, भारत में इसके 8 मुख्यालय हैं, ये नीचे दिए गए हैं-

मुख्यालय

एनटीपीसी की तेलंगाना सुपर थर्मल पावर परियोजना:

तेलंगाना के पेद्दापल्ली जिले में एनटीपीसी का 800 मेगा यूनिट का सुपर थर्मल पावर इकाई बनकर तैयार हो गयी है, जोकी प्रोजेक्ट की 2nd यूनिट है, प्रोजेक्ट की लागत 8,000 करोड़ से अधिक है, इसे अल्ट्रा सुपर क्रिटिकल तकनीक का उपयोग करके बनाया गया है ,जिसके कारण कार्बन डाई ऑक्साइड का उत्सर्जन बहुत कम हो जाता है।

इस प्रोजेक्ट की सबसे बड़ी खासियत है कि इस प्रोजेक्ट से तेलंगाना राज्य की 85% बिजली की आवश्यकता पूरी होगी, भारत में इस समय एनटीपीसी के जितने बिजली स्टेशन हैं, उनका कुल बिजली उत्पादन 42% तेलंगाना प्रोजेक्ट से होगा।

तेलंगाना राज्य में बिजली की आपूर्ति बढेगी इस के अलावा इस बिजली घर से देश के अन्य भागों में सस्ती और उच्च गुणवत्ता वाली बाली बिजली 24*7 उपलब्धता में मदद मिलेगी, इस थर्मल पावर प्रोजेक्ट की पहली यूनिट 2023 में शुरू हो गई थी।

उत्तर कर्ण

उत्तर कर्ण पुरा ताप विद्युत परियोजना की दूसरी इकाई (600 मेगा वाट):

तेलंगाना के साथ ही पीएम एमपीडीआई झारखंड के उत्तरी कर्णपुरा थर्मल पावर प्रोजेक्ट की दूसरी यूनिट का भी उद्घाटन करेंगे जिसकी क्षमता 600 मेगा वाट हैइस यूनिट की लागत 4,609 करोड़ है, और ये एयर कूल्ड कंडेनसर तकनीक पर आधारित है

इसे भारत की पहली सुपर क्रिटिकल थर्मल पावर यूनिट होने का भी गौरव प्राप्त है, जिससे पारंपरिक वाटर कूल्ड थर्मल कंडेनसर तकनीक की तुलना में थर्मल पावर कूलिंग सिस्टम के लिए पानी की रिक्वायरमेंट कम हो जाती है एनटीपीसी ने 2023 में उत्तर कर्ण पुरा थर्मल पावर स्टेशन का commercial Operation शुरू किया था।

फ्लाई ऐश

फ्लाई ऐश आधारित हल्के वजन वाला ऊर्जा संयंत्र:

पीएम मोदी इसी सीरीज में छत्तीसगढ़ के सीपत सुपरथर्मल पावर स्टेशन का भी उदघाटन करेंगे, इस यूनिट को 51 करोड़ के निवेश से बनाया गया है, ये यूनिट फ्लाई ऐश बेस्ड है सीपत पावर प्लांट लाइट वेट ऊर्जा पावर स्टेशन है।

इस यूनिट प्रोजेक्ट में पेलेटाइजिंग और सिंटिरिंग तकनीक का उपयोग किया गया है, इस प्लांट में ऐश को कोयले के साथ मिक्स करके ऊर्जा उत्पादन किया जाता है, जिस से प्राकृतिक संसाधनों का कम उपयोग होता है, और पर्यावरण भी सुरक्षित रहता है।

नेत्रा परिसर

एनटीपीसी नेत्रा परिसर power सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट:

पीएम मोदी ग्रेटर नोएडा के नेत्रा परिसर में लगाए गए ग्रीन हाइड्रोजन सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का भी उद्घाटन करेंगे, इस प्लांट को 10 करोड़ की लागत से बनाया गया है, इस प्लांट में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट से जो पानी निकलता है, जिस की ग्रीन हाइड्रोजन प्लांट में आपूर्ति की जाती है। एसटीपी से निकले पानी को ग्रीन हाइड्रोजन प्लांट तक सप्लाई की जाएगी, जिस से बिजली की खपत को कम करने के लिए मदद मिलती है।

सिंगरोली

सिंगरोली सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट:

पीएम मोदी सिंगरोली सुपर पावर थर्मल प्रोजेक्ट की 800 मेगा वाट यूनिट का भी शुभारंभ करेंगे, उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में 17,000 करोड़ से इस यूनिट को लगाया गया है, यह प्लांट पर्यावरणीय स्थिरता और तकनीकी नवीनताकी एक मिसाल है।

फ्लू गैस कार्बनडाइऑक्साइड से 4जी इथेनॉल प्लांट:

पीएम मोदी, छत्तीसगढ़ के लारा सुपर थर्मल पावर स्टेशन में 4जी इथेनॉल प्लांट की आधारशिला रखेंगे, इस प्लांट की लागत 294 करोड़ है, यह बेहद इनोवेटिव प्लांट 4जी एथेनॉल को सिंथसाइज (इकट्ठा) करके फ्लू गैस से कार्बनडाइऑक्साइड को अवशोषण करेगा जिस सेग्रीन हाउस उत्सर्जन कम होगा, और विमान ईंधन अधिक उपलब्ध होगा।

विशाखापत्तनम सिम्हाद्री हरित हाइड्रोजन संयंत्र:

इसके साथ पीएम मोदी आंध्र प्रदेश के सिम्हाद्रि में स्थित एनटीपीसी संयंत्र में लगाए गए हरित हाइड्रोजन संयंत्र का उद्घाटन करेंगे,इस संयंत्र की लागत 30 करोड़ है, यहां समुद्र के पानी से हरित हाइड्रोजन का उत्पादन किया जाता है, इस संयंत्र का मुख्य उद्देश्य ऊर्जा की बचत करना है।

कोरबा

छत्तीसगढ़ के कोरबा में सुपर थर्मल पावर स्टेशन में ऐश फ्लाई आधारित एफएएलजी कलेक्टिव प्लांट:

पीएम मोदी 22 करोड़ से लगाए गए, इस प्लांट को राष्ट्र को समर्पित करेंगे, यहां ऐश को वैल्यू एडेड बिल्डिंग मटेरियल में कन्वर्ट किया जाएगा,जिससे पर्यावरण को सुरक्षित रखा जा सकेगा।

एनटीपीसी की ये सभी परियोजनाएं भारत के बुनियादी ढांचे का सर्वोत्तम उपयोग करेंगी, जिससे नए रोजगार निकलेंगे,सामुदायिक विकास में मदद मिलेगी और पर्यावरण भी सुरक्षित रहेगा। ये सभी परियोजनाएँ 30,023 करोड़ के निवेश से शुरू हो रही हैं, जिनमें से आगे आने वाले समय में भारत का हरित ऊर्जा क्षेत्र मजबूत होगा,और भविष्य अधिक टिकाऊ होगा।

FAQ:

Q: भारत में सबसे बड़ा एनटीपीसी प्लांट कहां है ?

A: मध्य प्रदेश का विंध्याचल पावर स्टेशन जोकी सिंगरौली में स्थापित है भारत का सबसे बड़ा एनटीपीसी प्लांट है, ये भारत का अकेला प्लांट है जहां कोयले से बिजली बनाई जाती है, ये दुनिया का 9वां कोयला आधारित प्लांट भी है इसकी क्षमता 4760MV है।

Q: भारत के किस प्रदेश में सबसे ज्यादा थर्मल पावर प्लांट है?

A: महाराष्ट्र

Q: एनटीपीसी का आदर्श वाक्य(motto) क्या है?

A: एनटीपीसी के सभी प्रोजेक्ट में प्रोडक्शन से पहले सुरक्षा आती है,यही एनटीपीसी का आदर्श वाक्य है।

आपको पीएम मोदी एनटीपीसी की 30.000 करोड़ पोस्ट में एनटीपीसी परियोजनाओं से संबंधित सभी जानकारी उपलब्ध कराई गयी है यदि आपको जानकारी उपयोगी लगी हो तो इसे अपने मित्र मंडली में साझा करें। और Comment करें।

इन्हें भी पढ़े:

आरके स्वामी आईपीओ सोमवार को खुलेगा, जानिए जीएमपी रिपोर्ट, कितना होगा मुनाफा और भी बहुत कुछ!

इलेक्टोरल बॉन्ड मामला :एसबीआई को सुप्रीम कोर्ट आदेशों की अवमान्ना पर चेतावनी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here