तनाव मुक्त, तरोताजा होने के लिए मार्च में इन Destinations को शामिल करें

0
63
स्वराज

सभी के जीवन में तनाव एक बड़ी समस्या है, एक ही स्थान पर लंबे समय तक रहने की जगह, अगर समय समय पर कुछ दिनों के लिए आउटिंग कर ली जाए तो मन और दिमाग दोनों रिफ्रेश हो जाते हैं और दोबारा पूरी ताकत से ज़िम्मेदारियों को अच्छे से निभाया जा सकता है तो आइए ऐसी ही अनजान जगहों के बारे में जानते हैं

चिकमंगलुरु: भारत के दक्षिण में कर्नाटक राज्य की राजधानी बेंगलुरु से 271 किमी दूर है, यहां वाया मंगलुरु हवाई अड्डे से या बस या टैक्सी से आसनी से पहुचा जा सकता है, चिकमंगलुरु को पहले कदुर नाम से जाना जाता था

भाषा अधिक आबादी कन्नड़ बोलती है, तेलुगु और मलयालम भी कुछ जगहों पर बोली जाती हैचिकमगलुरु मुल्यानागिरी हिल के बेस में 3400 feet पर बसा है ऐसा माना जाता है कि कॉफी की शुरुआत यहीं से हुई थी इसलिए इसे लैंड ऑफ कॉफी भी कहा जाता है।

मुख्य आकर्षण – बुदनागिरी, जोकि हिंदू और मुसलमानों की आस्था का केंद्र है अपनी प्राकृतिक सुंदरता और ट्रैकिंग के लिए जाना जाता है इसके अलावा, केम्मनगुंडी, माणिक्य धारा झरना, कॉफी संग्रहालय, भद्रा वन्य जीव अभ्यारण्य घुमने के लिए सबसे अच्छी जगह है।

भोजन– कुदुबु चिकमगलुरु का सबसे प्रसिद्ध व्यंजन है जिसेचावल के आटे में कसा हुआ कद्दू और मसाले डालकर स्टीम में बनाया जाता हैसर्वोत्तम यात्रा का समय – अक्टूबर से मार्च के बीच प्लान किया जा सकता है।

मौसम- दिन के समय सूती कपड़े क्योंकि यहां दिन में काफी गर्मी होती है।

स्वराज या हैवलॉक:द्वीप अंडमान और निकोबार द्वीप समूह का सबसे बड़ा द्वीप और जिसका पुराना नाम हैवलॉक द्वीप था ,जहाँ कोरल रीफ देखने, और डाइविंग के लिए लोग यहां जाना पसंद करते हैं।

भाषा यहां स्थानीय अंडमानी भाषा बोली जाती है वैसे हिंदी आम बोलचाल की भाषा है, तमिल मलयालम आदि भी बोली जाती है।

स्थान- बंगाल की खाड़ी, यह अंडमान और निकोबार द्वीप का एक हिस्सा है।

मुख्य आकर्षणएलिफंटा बीच जो कि अनछुए मूंगे और समृद्ध समुद्री जीवन का आनंद लेने के लिए लोगो को आकर्षित करता है नाव से समुद्र यात्रा शुरू करने के लिए 20 मिनट में समुद्र तट पर पहुंच कर 2-3 मीटर की गहराई में जीवित मूंगे और रंगीन मछलियों को देखा जा सकता है।

 

स्वराज

परिवहन के लिए: पोर्टब्लेयर से स्वराज द्वीप तक हवाई जहाज या जहाज से या बस से जा सकते हैं, सरकारी बस 2 घंटे और एसी कैटामरीन 90 मिनट का समय लेते हैं. Local visit करने के लिए किराए पर मोटर साइकिल मिल जाती है पोर्टब्लेयर से नील आइलैंड और स्वराज आइलैंड आईटीटी मेजिस्टिक फुल एसी शिप सुविधा उपलब्ध रहती है।

मुख्य आकर्षण- एलीफेंटा बीच यहां का मुख्य आकर्षण है यहां नाव से पहुंचने की सुबिधा मिल जाती है यहां की समुद्र तट की खुबसूरती और गोताखोरी समुद्र के अंदर की दुनिया एक शानदार अनुभव देती है।

भोजन- स्वराज द्वीप पर शुद्ध शाकाहारी भोजन, उत्तर भारत की तरह चाट, समोसा और अन्य खाद्य पदार्थ स्ट्रीट फूड के रूप में और रेस्तरां में कम दर पर उपलब्ध रहता है, अंडमान कोकम एक प्रसिद्ध फल है जो फरवरी मार्च में आसानी से मिल जाता है, गैर -शाकाहारियों के लिए समुद्री भोजन तो आसानी से मिल ही जाता है।

यात्रा का सर्वोत्तम समय- जून से सितंबर तक का समय को छोड़कर पूरा साल उपयुक्त रहता है।

वायनाड: केरल के कोझीकोड रेलवे स्टेशन से 110 किमी दूर एक पहाड़ी क्षेत्र है, कोझीकोड तक चन्नई, बेंगलुरु और कोच्चि से आसानी से पहुचा जा सकता है, कोझीकोड से बस से वायनाड तक जाया जा सकता है।

भाषा- अधिक जनसंख्या वायनाड चेट्टी बोलती है, वैसे कन्नड़ भी बोली जाती है।

मुख्य आकर्षण- कोजिकोड अपनी चाय और कॉफी बागान के लिए तो मशहूर है ही, सरप्राइज कर देने वाली सुंदरता, आकर्षक दृश्य, खुशनुमा मौसम और, खूबसूरत झीलें, और शानदार गुफाओं के लिए जाना जाता है यहाँ का मौसम सुहावना दिन में गर्मऔर रात में ठंडा रहता है कलपेट्टा, मीनागाडी, पोझुथाना, मेपड्डी, पैराडाइज पुकोडे, एड्डाकल, थिरुनेली कैंपिंग और ट्रैकिंग के लिए दूर-दूर से लोग यहां आते हैं कारापुझा बांध, कार्लाड झील, चेंगारी रॉक एडवेंचर सेंटर आकर्षण का अन्य बिंदु हैं।

भोजन-ज्यादातर खाना नॉन वेज है लेकिन फिश मोइली वायनाड की रेसिपी में टॉप पर है।

यात्रा का सर्वोत्तम समय नवंबर से फरवरी तक का समय काफी आकर्षक होता है।

तवांग: छठे दलाई लामा के जन्मस्थान से जुड़ा है, विश्व का सबसे बड़ा बौद्ध मठ भी कहा जाता है अरुणाचल प्रदेश में प्रशासनिक व्यवस्था है, असम के तेजपुर से 317 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, तेजपुर के सलोनीबारी हवाई अड्डे तक कोलकाता और सिलचर से पहुचा जा सकता है।

भाषा- पूर्वी बोधिश भाषा बोली जाती है।

परिवहन के लिए असम के तेजपुर का रंगपारा निकटतम स्टेशन है, हवाई यात्रा के अलावा यहां कोलकाता, दिल्ली, चेन्नई आदि स्थानों से सीधी कनेक्टिविटी है रंगपारा से तवांग टैक्सी से आसानी से पहुचा जा सकता है।

तवांग

भोजन- भोजन mixed होता है, जैन जिसे मांस या रोटी के साथ परोसा जाता है, ग्यापा कगाजी मोमो, थुकपा , पिका पिला प्रसिद्ध व्यंजन है।

मुख्य आकर्षण तवांग का मोनपा मठ सांस्कृतिक और ऐतिहासिक है, मोनपा मठ एशिया का सबसे पुराना मठ माना जाता है इसके अलावा तवांग युद्ध स्मारक, नूरानांग फॉल्स यहाँआने वाले पर्यटकों के लिए कभी ना भूलने वाली मिसाल पेश करते हैं तवांग का इतिहास काफी पुराना है यहां के लोग धार्मिक और सादा जीवन पसंद करते हैं तवांग में देखने के लिए कुछ लोकप्रिय स्थान हैं: तवांग मठ, गोरीचेन पीक,नागुला पीक आदि। संस्कृति, प्रकृति और आकर्षक स्थानों का एक आदर्श मिश्रण पेश करते हुए, तवांग छुट्टियों का आनंद लेने के लिए एक अद्भुत पर्यटन स्थल है।

यात्रा का सर्वोत्तम समय – सितंबर-अक्टूबर और मार्च से मई तक छुट्टियों के लिए सबसे उपयुक्त समय होता है, मौसम ठंडा रहता है।

शिलांग मेघालय राज्य की राजधानी है, प्राकृतिक रूप से बस हुआ अपनी हरियाली, सुगंधित फूल और आकर्षक प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है।

भाषा- अधिकतर लॉग स्थानीय भाषा का प्रयोग करते हैं इसके अलावा पंजाबी, असमी, गारो, नेपाली, और अरबी भी बोली जाती है, मुख्य धर्म ईसाई धर्म है।

शिलांग

परिवहन के लिए- गौहाटी निकटतम हवाई अड्डा हैऔर रेल सेवा के माध्यम् से शिलांग को देश के अन्य भागों से जोडताहै जोकी शिलांग से 100 किमी दूर है  गौहाटी से बस सेवा भी उपलब्ध है।

शिलॉन्ग को भारत का स्कॉटलैंड कहा जाता है यहां मुख्य रूप से झीलें और खुबसूरत झरने हैं जिनमें शिलॉन्ग पीक, एलीफेंट फॉल्स, वर्ड्स लेक, लेडी हैदरी पार्क, और पुलिस बाजार सबसे आकर्षक जगहें हैं।

भोजन सफ़ेद चावल, जादोह, और मांस पसंद किया जाता है।

शिलांग यात्रा करने के लिए आवश्यकता के अनुसार औसत दर वाले होटल मिल जाते हैं।

FAQ:

Q:शिलांग यात्रा के लिए कितने दिन चाहिए?

A:पूरा शिलॉन्ग घूमने के लिए 5 दिन से कम नहीं चाहिए अगर आप जल्दी वापसी चाहते हैं तो 3 दिन का ट्रिप बना सकते हैं।

हमारे नवीनतम पोस्ट इन्हे भी पढ़ें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here